कौन हैं ये पांच हुस्न की परियां, जिनकी गिरफ्तारी से मध्यप्रदेश के नेता और अफसर हैं डरे

भोपाल/ पांच परियों की गिरफ्तारी के बाद मध्यप्रदेश के सफेदपोशों के बीच हड़कंप मचा है। सब डरे हैं कि पता नहीं कब किसका वीडियो सामने आ जाए। गिरफ्तारी से पहले इनकी हनक ऐसी थी कि जिसकी गूंज सत्ता की गलियारों में सुनाई देती थी। आईएएस और आईपीएस जैसे अधिकारी तो इनके दर पर नतमस्तक होने आते थे। भोपाल के सबसे पॉस सोसायटी रेवेरा टाउनशिप इनका ठिकाना था।

इन पांचों महिलाएं की चर्चा अभी मध्यप्रदेश में खूब हो रही है। लेकिन बड़े अधिकारी और नेता चुप्पी साधे हैं। लेकिन बताया जा रहा है कि हनीट्रैप के इस खेल को लेकर सरकार सख्त है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार आने वाले दिनों में मध्यप्रदेश की सरकार इसे लेकर एसआईटी का भी गठन कर सकती है। ऐसे में लोग यह भी जानना चाहते हैं कि आखिर कौन हैं महिलाएं, जिनका जादू नेताओं और अफसरों पर चल जाता था।

3_3.jpg

आरती दयाल
एक साल से भोपाल की मिनाल रेसीडेंसी के ही सागर लैंडमार्क में रह रही है। उसके पास एक क्रेटा गाड़ी है। बताया जाता है कि इसी ने एक पूर्व सीएम को भी ब्लैकमेल किया था। कुछ महीने पहले ही मध्यप्रदेश के छत्तरपुर में अपने पति के खिलाफ दहेज प्रताड़ना का केस रजिस्टर्ड करवाया था। आरती छत्तरपुर में भी दर्जनों महिलाओं को ब्लैकमेल कर चुकी है। 29 साल की आरती ही अपनी क्रेटा गाड़ी से इंदौर इंजीनियर से पैसे वसूलने गई थी।

2_3.jpg

श्वेता विजय जैन
यह महिला सागर की रहने वाली है और भोपाल के न्यू मीनाल में रह रही है। इसने 2015 में इलेक्ट्रिकल एंड थर्मल इंसुलेशन प्रोडेक्ट की कंपनी शुरू की थी। इसके घर से पुलिस ने 14 लाख से अधिक कैश बरामद किया है। इसने पास MP 04 CX 0072 नंबर की मर्सिडीज कार भी है, तीन माह पहले ही खरीदी है। इसके पास पहले से एक ऑडी भी है।

4_2.jpg

श्वेता स्पप्निल जैन
इस महिला का नाम भी श्वेता है, इसके पति का नाम स्वप्निल जैन है। यह जयपुर की रहने वाली है और भोपाल के पॉश इलाके रिवेरा टाउनशिप में रहती है। इस टाउनशिप में कई विधायकों और मंत्री समेत आईएएस अफसरों के बंगले हैं। श्वेता के पति स्वप्निल जैन को कई पब और पार्टियों में देखा जाता है। यह दोनों ही इतने शातिर हैं कि अपने दोस्तों को ही ठग चुके हैं। श्वेता भी ऑडी कार में चलती है। इसे महंगे पार्टियों में जाने का शौक है।

5_2.jpg

बरखा सोनी भटनागर
बरखा नाम की इस महिला ने अमित सोनी से दूसरी शादी की है। अमित सोनी कांग्रेस का नेता रहा है। अमित एनजीओ का संचालन करता है। एग्रीक्लचर से जुड़े प्रोजेक्ट पर काम करती है। बरखा देह व्यापार में वर्ष 2014 से लिप्त थी। इसके बाद यह सागर की श्वेता जैन से जुड़ गई। बरखा के पास कार और ऐशोआराम की सभी चीजें हैं।

6.jpg

मोनिका यादव
मोनिका नाम की यह लड़की इस गिरोह की सबसे कम उम्र की है। राजगढ़ की रहने वाली मोनिका बीएससी की पढ़ाई कर रही है। इसकी उम्र 18-19 के बीच है। इस लड़की का आईएएस और कुछ नेताओं के पास आना-जाना लगा रहता था। ये मोबाइल फोन पर मीटी बातें और मैसेज से अफसरों को अपने जाल में फांस लेती थी। इसे भी अपने साथ आरती ने गिरोह में शामिल कर लिया था।

कैसे काम करती थीं ये
हनीट्रैप गिरोह एक सोची-समझी साजिश के तहत अफसरों और नेताओं का शिकार करती थी। पहले मुख्य सरगना महिला रसूखदार और बड़े ओहदे वाले अफसरों से संपर्क साधती। खुद को सरकारी ठेकेदार बताक काम के बहाने दोस्ती करती। फिर फोन और वॉट्सऐप के जरिए बात बढ़ाते और निजी अंतरंग बातें की जाती। जैसे ही अफसर या जाल में फंसा व्यक्ति भी बात करने में रुचि दिखाता तो उसे मिलने के लिए दबाव बनाया जाता। छोटी मुलाकात के दौरान भी अंतरंग बातें कर उसे अपने जाल में फंसाया जाता। होटल में मिलने के दौरान उसके साथ अंतरंग पल बिताते। इसी दौरान कहीं स्पॉय कैमरे से तो कहीं खुद ही मोबाइल लेकर वीडियो बना लिया जाता। फिर कुछ दिन तक मिलने और वीडियो बनाने का सिलसिला जारी रहता। इन वीडियो को दिखाकर ब्लैकमेलिंग शुरू की जाती। जैसे अफसर या प्रभावी व्यक्ति होता, उस हिसाब से रुपये की डिमांड की जाती।


बताया जाता है कि पहले ये लोग अलग-अलग काम करती थीं। पिछले कुछ सालों में सब संगठित गिरोह के रूप में काम करने लगीं। सभी महिलाओं की अपनी अलग-अलग पहचान थी। यह नेताओं-मंत्रियों के पास पहले खुद जाती थीं और मेलजोल बढ़ाती थीं। उसके बाद फिर दूसरे सदस्यों को भेज वीडियो शूट करतीं। फिर ब्लैकमेल करना शुरू करतीं।

Source-uc news

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *